• joinswadeshi2020@gmail.com
  • +91-9318445065
10:18 am June 27, 2024

रसीद बुक, पैंफलेट, छुपी हुई सामग्री से नहीं, श्रद्धा और विश्वास से स्वदेशी अभियान को मिलता है धन!

कल रायपुर (छत्तीसगढ़) में स्वदेशी मेले में बैठक करके बाहर निकला तो मिसकॉल देख फोन किया। चंडीगढ़ से अपना युवा पूर्णकालिक कार्यकर्ता बोल रहा था।

उसने कहा, “सतीश जी! आज एक मार्च है, ध्यान है न?”

मैंने कहा, “हां है, तो! लेकिन क्या तेरा जन्मदिन है?”

कहने लगा, “नहीं नहीं! आज धन संग्रह की शुरुआत है न?”

मैंने कहा, “है तो, पर अभी रसीद बुक आदि छपी नहीं है।”

तो उसने कहा, “तो क्या हुआ! मैं ₹11000 बैंक में डाल रहा हूं, ठीक है?”

मैंने चौकते हुए कहा, “क्या? तुम तो अभी कोई कमाई भी नहीं करते हो?”

वह बोला, “नहीं जी! कुछ पॉकेट मनी तो मिलती ही है, मैंने कई दिन से सोच रखा था, आप मना मत करिए।”

मैंने भरे गले से उसे अनुमति दी और तुरंत अपने कोष प्रमुख बलराम नन्दवानी को फोन कर यह बताया।

उन्होंने कहा, “ठीक है सतीश जी! हमने 1 मार्च का कहा है तो मैं भी एक लाख का चेक साइन कर रहा हूं।”

और यही नहीं उन्होंने फोन किया या क्या किया कि 2 घंटे बाद प्रो: सोमनाथ जी का संदेश पढ़ा – “2,65,000 हरियाणा के पांच बंधुओं ने दे दिया है।”

रात्रि को अरुशेंद्र जी का समाचार आया कि मध्य भारत से 1,37,000 आ गया है। फिर नोएडा से 51 हजार, दिल्ली से 15000 का समाचार आया।

मैं सुनकर हैरान, कि न रसीद बुक न पैंफलेट न कोई छपी सामग्री, तो फिर कैसे हो रहा है?

तो अंदर से ही उत्तर मिला, “स्वदेशी आंदोलन के प्रति जो श्रद्धा और विश्वास है उसके कारण से हमें पैसा मिलता है। और यह अभियान की शुरुआत है। स्वदेशी शोध संस्थान व भवन बने, यह सारे देश की तीव्र इच्छा है। नया भवन देश का, स्वदेशी के प्रति विश्वास और श्रद्धा का भी प्रतीक होगा। देश भर में बैठकें, संकल्प, लक्ष्य तय हो रहे हैं। अति उत्साह वर्धक समाचार अनेक प्रांतो से आने लगे हैं।

~सतीश कुमार

नीचे: कल स्वदेशी मेले में मंच पर, प्रान्त स्वदेशी टोली के साथ व छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुइया उइके जी द्वारा सम्मानित किये जाने के चित्र

Author: swadeshijoin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

insta insta insta insta insta insta