• joinswadeshi2020@gmail.com
  • +91-9318445065
4:10 am August 8, 2023

वस्तु एवं सेवा करः छोटे को बड़े के साथ समान अवसर प्रदान करना

जीएसटी ने संगठित क्षेत्र का आधार विस्तृत किया है और छोटे व्यवसाय को संगठित प्रणाली में शामिल होने के लिए प्रेरित भी किया। जीएसटी लागू होने से पारदर्शिता बढ़ी है और विस्तार प्रक्रिया में किसी भी हितधारक के शोषण को बहुत हद तक नियंत्रित किया है। – आलोक सिंह

भारत के सबसे क्रांतिकारी कर सुधारों में से एक वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) केंद्र और राज्य द्वारा एकत्र किए गए कई अप्रत्यक्ष करों को खत्म करने के लिए डिजाइन किया गया है। वस्तु एवं सेवा कर लागू होने से देश भर में समान कीमत, सरलीकृत प्रणाली, विदेशी निवेश, आयात और निर्यात उद्योग में वृद्धि, पारदर्शिता, आसान उधारी, कई करों का एकीकरण, कर चोरी की जांच के साथ-साथ बाजार में मौजूद बड़े खिलाड़ियों के साथ प्रतिस्पर्धा करने वाले छोटे खिलाड़ियों को भी समान अवसर प्राप्त हुआ है।

किसी भी क्षेत्र का एक बड़ा खिलाड़ी अपने आपूर्ति श्रृंखला प्रथाओं को जिस तरह आगे एकीकृत करता है ठीक उसी तरह पीछे भी एकीकृत किया जा सकता है। जब कोई कंपनी आगे एकीकृत कर रही होती है तो वह अपने नियोजित उत्पाद को अपने सिस्टम पर अंतिम उपयोगकर्ता ग्राहक के करीब ले जा रही होती है और इस प्रकार संपूर्ण अग्रसारित आपूर्ति श्रृंखला पर नियंत्रण रखती है। जब कोई कंपनी खुद को पीछे की ओर एकीकृत कर रही होती है तो वह नियोजित उत्पाद का उत्पादन करने के लिए आवश्यक कच्चे माल और अन्य सहायक भागों की आपूर्ति को नियंत्रित करने का प्रयास कर रही होती है। पीछे एकीकृत को समझने के लिए उदाहरण स्वरूप यदि हम एक ऐसी कंपनी का विचार करते हैं जो आलू के चिप्स का निर्माण कर रही है, तो यह कंपनी आलू की मालिक है।आलू का मालिक होने के लिए कंपनी ट्रकों सहित लॉजिस्टिक नेटवर्क की भी मालिक है। कंपनी कोल्ड स्टोरेज सुविधाओं की भी मालिक है। आलू की खेती करने वाले किसानों के करीब रहकर अपना उद्योग आगे बढ़ाने में लगी है कंपनी किसानों के साथ कानूनी रूप से बाध्य कृषि अनुबंध करती है या भूमि मालिकों से लंबे समय के लिए कृषि भूमि पट्टे पर भी ले लेती है।इस मामले में आगे के एकीकृत का मतलब है कि कंपनी के पास पैक किए गए आलू के चिप्स को बाजार तक पहुंचाने के लिए लॉजिस्टिक सुविधा है इसके पास बाजार के पास से गोदाम भी है इसके आलू के चिप्स के लिए विशेष हो और विशेष खुदरा दुकानें भी हैं साथ ही साथ यह अन्य आलू चिप्स निर्माता द्वारा तैयार किए गए यथासंभव ग्राहकों के निकट भी है। इस परिदृश्य में कंपनी के पास सब कुछ उपलब्ध है और इसलिए कंपनी द्वारा भुगतान किया गया कर भी उसकी जानकारी में है। कंपनी अपने पिछले और आगे की आपूर्ति श्रृंखला का पता लगा सकती है और अपनी परिचालन दक्षता में सुधार कर सकती है और इस प्रकार कुल लाभ मार्जिन में लगातार वृद्धि भी कर सकती है।

जबकि दूसरी तरफ एक छोटा खिलाड़ी जो आलू के चिप्स बनाता है वह दूसरे छोटे खिलाड़ियों पर निर्भर होता है। एक छोटा खिलाड़ी आलू की आपूर्ति करता है, एक अन्य छोटा खिलाड़ी है जो चिप्स को बाजार तक पहुंचाता है और एक अन्य छोटा दुकान विक्रेता है जो आलू के चिप्स बेचता है। इस तरह छोटे आलू चिप्स व्यवसाय में खेत से लेकर अंतिम उपयोगकर्ता ग्राहक तक छोटे खिलाड़ियों की एक बड़ी श्रृंखला हो सकती है।

ऐसे में जीएसटी प्रभात प्रणाली के अभाव में छोटे खिलाड़ी की उत्पादन लागत अधिक होगी और इसलिए उसकी बाजार हिस्सेदारी छोटी होती जाएगी। ऐसे खिलाड़ियों को स्थिरता की रोशनी आसानी से नहीं मिल पाती और वे जीवन भर अस्तित्व के लिए संघर्ष करते रहते हैं। पुरानी कर प्रणाली ऐसी थी कि छोटे खिलाड़ियों को कर का भुगतान नहीं करना पड़ता था और बड़े एकीकृत खिलाड़ियों के साथ उत्पादन लागत के मिलान के लिए सुविधाओं तक पहुंच भी नहीं मिलती थी। इसका मतलब यह है कि छोटे खिलाड़ियों द्वारा कर से बचाव उच्च उत्पादन लागत, कम बाजार हिस्सेदारी और इसीलिए कम लाभ की मार्जिन की कीमत पर होता था। ऐसे में किसी एक मुकाम पर किन्ही कारणों से मिली विफलता छोटे व्यवसाई को आसानी से व्यवसाय से बाहर कर सकती है। जीएसटी की यही खूबी है कि इसने छोटे खिलाड़ियों के लिए बड़े खिलाड़ियों के साथ समान बाजार व्यवहार करने का अवसर प्रदान किया है।

राज्य और केंद्रीय करों की पुरानी प्रणाली के व्यापक प्रभाव से छोटे व्यवसाय पर प्रतिकूल असर पड़ा था। जीएसटी में इनपुट टैक्स क्रेडिट तंत्र छोटे व्यवसाय को बड़े एकीकृत व्यवसायियों के साथ उत्पादन की लागत का मिलान करने का अवसर प्रदान करता है। पहले बड़े एकीकृत व्यवसाय कच्चे माल, लॉजिस्टिक, समर्थन, बाजार पहुंच और अन्य कार्यों को घर में ही प्राप्त कर सकते थे जबकि छोटे व्यवसाय उसी कच्चे माल लॉजिस्टिक समर्थन बाजार पहुंच और अन्य कार्यों के लिए बाहरी एजेंसियों पर निर्भर थे। जिसके परिणाम स्वरूप बड़े एकीकृत व्यवसाय की तुलना में छोटे व्यवसायों के लिए उत्पादन संचालन और लागत अधिक होती थी। जीएसटी लागू होने से छोटे व्यवसाय को मुनाफा कमाने के लिए संगठित तंत्र को एक तरह से दरकिनार किया गया और ऐसे व्यवसाय अपने अस्तित्व के लिए ज्यादातर कठिन मुद्रा से ही निपटते थे। वह छोटा व्यवसाय जिसने सफलता का एक स्थाई स्तर प्राप्त कर लिया है वह लाभ कमाने के लिए कठिन मुद्रा लेनदेन तंत्र पर भी भरोसा कर सकता है। फिर भी संगठित जैसा इसे इस तरह के जानबूझकर किए गए बहिष्कार से दक्षता उत्पादकता और कई अन्य चीजों में भारी बदलाव आया है। एक बार जब कोई छोटा व्यवसाय जीवित रहता है तो वही स्थिरता की आकांक्षा करता है और फिर बाजार में अपनी पहुंच का विस्तार करके लाभ को अधिकतम करने का लक्ष्य निर्धारित करता है। ऐसे व्यवसाय कर चोरी के माहिर होते थे, जीएसटी व्यवस्था ने ऐसे व्यवसायियों को लाइन में लगने के लिए मजबूर कर दिया है।

जीएसटी के साथ-साथ केंद्र सरकार छोटे संगठित व्यवसायियों को संगठित, व्यवसाय की ओर स्थानांतरित करने के लिए प्रोत्साहन की योजनाएं भी लेकर आई है। उत्पादन से जुड़ा प्रोत्साहन, (पीएलआई) कर अवकाश अवधि, ईकॉमर्स को विनियमित करने, ओपन नेटवर्क डिजिटल कॉमर्स (ओएनडीसी) प्रदान करने जैसे कई अन्य आश्वासनों और कार्यों के संदर्भ में सहायता जैसी योजनाएं शामिल है।  जाहिर तौर पर जीएसटी तंत्र छोटे व्यवसायों के लिए एक बड़ी राहत है। इसके अतिरिक्त असंगठित क्षेत्र में छोटे व्यवसायियों के लिए रीढ़ की लागत असंगठित क्षेत्र की तुलना में सस्ती है। छोटे व्यवसाय के लिए असंगठित क्षेत्र या अनौपचारिक श्रेणी में बने रहने के लिए कोई प्रेरणा नहीं बची है, क्योंकि संगठित श्रेणी में छोटे व्यवसाय को दी जाने वाली पारदर्शिता जवाबदेही और सुविधाएं बहुत बड़ी है। जीएसटी असंगठित श्रेणी के व्यवसाय को संगठित श्रेणी में बदलने के लिए एक ट्रिगर बिंदु है। ऐसे में छोटे व्यवसाय एक साथ आ सकते हैं। अपने उत्पादों और सेवाओं के लिए एक अलग कलस्टर बना सकते हैं और अपने व्यवसाय के लिए एक सहकारी समिति भी खड़ा कर सकते हैं। लेकिन यह तभी संभव है जब किसी विशेष उत्पाद या सेवा के सभी छोटे व्यवसाय संगठित रूप से जुड़े।

देश में पेट्रोलियम उत्पाद फिलहाल जीएसटी के दायरे से बाहर है। पेट्रोलियम उत्पाद, रसद और परिवहन लागत को बड़े पैमाने पर प्रभावित करते हैं। पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी में शामिल करने से छोटे व्यवसाय को और अधिक मदद मिलेगी। इसी तरह रियल स्टेट व्यवसाय मुख्य रूप से असंगठित है और बड़े शहरों के कई छोटे ठेकेदार और छोटे शहरों के बड़े ठेकेदार हैं जो असंगठित क्षेत्र में व्यवसाय करने में सहज है। रियल स्टेट का क्षेत्र जीएसटी के दायरे में है लेकिन रियल स्टेट क्षेत्र में जीएसटी के बारे में कई किंतु-परंतु है। सरकार को रियल स्टेट के लिए एक सरल जीएसटी तंत्र विकसित करना चाहिए जो रियल एस्टेट खरीददारों, डेवलपर्स और रियल स्टेट परियोजना आपूर्ति श्रृंखला के सदस्यों द्वारा समझने योग्य और व्याख्या करने योग्य भी हो। कुल मिलाकर जीएसटी ने संगठित क्षेत्र का आधार विस्तृत किया है और छोटे व्यवसाय को संगठित प्रणाली में शामिल होने के लिए प्रेरित भी किया। जीएसटी लागू होने से पारदर्शिता बढ़ी है और विस्तार प्रक्रिया में किसी भी हितधारक के शोषण को बहुत हद तक नियंत्रित किया है। 

(आलोक सिंह भारतीय प्रबंधन संस्थान इंदौर के फेलो एक स्वतंत्र शिक्षाविद है और एजीपी बिजनेस स्कूल झज्जर से संबंद्ध है)।

Author: swadeshijoin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

insta insta insta insta insta insta