• joinswadeshi2020@gmail.com
  • +91-9318445065
10:09 am June 27, 2024

पूर्वी भारत बन रहा स्वदेशी, हिंदुत्व, व राष्ट्रवाद का नया गढ़!

पूर्वी भारत बन रहा स्वदेशी, हिंदुत्व, व राष्ट्रवाद का नया गढ़!

कश्मीरी लाल जी का पिछले 4 दिन से उड़ीसा का प्रवास आज पूर्ण हो रहा है और वे सवेरे बंगाल पहुंच रहे हैं। मैं स्वयं असम त्रिपुरा का प्रवास पूरा कर आज सायं बंगाल पहुंच रहा हूं।

जब मैं गुवाहाटी में था तो मैंने वहां के क्षेत्र प्रचारक जी से बात की। उन्होंने संगठन का और स्वदेशी का विस्तार कैसे कैसे हो सकता है, इसके विषय में विचार दिए।

गुवाहाटी की कार्यकर्ताओं की बैठक में तरूणों का उत्साह देखकर मैं स्वयं उत्साहित हो गया। त्रिपुरा गया तो सब जगह पर, जय स्वदेशी…भारत माता की जय, यही सुनने में आ रहा था।

गुवाहाटी के संघ कार्यालय से एयरपोर्ट छोड़ने के लिए पुराने मित्र और भाजपा के असम क्षेत्र के संगठन मंत्री अजय जमवाल जी गए। हम दोनों जम्मू कश्मीर में इकट्ठे प्रचारक रह चुके हैं।

वे कहने लगे, “सतीश जी! जरा इधर जल्दी आया करो! इधर के आठों प्रांतों में अपना ही राज चलता है।

मैंने कहा, “वह कैसे?”

तो कहने लगे, “असम, त्रिपुरा, मणिपुर और अरुणाचल इनमें तो भाजपा के ही मुख्यमंत्री हैं, शेष चारों में भी हमारे समर्थन से ही मुख्यमंत्री हैं।”

उधर मैंने जब कश्मीरी लाल जी से उड़ीसा के प्रवास कार्यक्रमों का हाल जाना तो वह भी लबालब उत्साह से परिपूर्ण थे।

मैं सोच में था। 7-8 साल पहले तक यह क्षेत्र भारत व हिंदुत्ववादी शक्तियों के लिए सबसे कमजोर क्षेत्र था। कम्युनिस्ट, इसाई, सेक्युलर, अलगाववादी दलों की ही सरकारें थीं। उन्ही का बोलबाला था। पर अब सब तरफ़ “जय स्वदेशी”, “जय भारत”, “जय श्रीराम” हो रहा है।

बचा ममता बैनर्जी का बंगाल! वह तो स्वयं ममता को भी लग रहा है की अगले 2 महीनों में हिंदुत्वमय हो जाएगा।

आप भी आइए! कुछ दिन तो गुजारो पूर्वोत्तर में!

~सतीश कुमार

नीचे:उड़ीसा के प्रवास में कश्मीरी लाल जी, अन्नदा व अगरतला में एक लघु उद्योगी के यहां स्वदेशी कार्यकर्ताओं के साथ।

Author: swadeshijoin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

insta insta insta insta insta insta