• joinswadeshi2020@gmail.com
  • +91-9318445065
1:28 pm June 19, 2024

बिसलेरी (पानी-बोतल) के रमेश चौहान

एक स्वदेशी योद्धा की देसी कहानी!!

पारले ग्रुप के बिसलेरी ब्रांड के निर्माता रमेश चौहान भारत के देसी उद्योगपतियों में एक प्रेरणा स्रोत हैं। 1964 में पिताजी की एक छोटी सी खारे पानी की बोतल बनाकर बेचने वाली कंपनी के अगुआ बने और धीरे-धीरे करके गोल्डस्पॉट और लिम्का शुरू किया। फिर जब 1977 में कोका कोला भारत छोड़कर गई तो उन्होंने कोल्ड ड्रिंक के क्षेत्र में प्रवेश किया और 80% तक कोल्ड ड्रिंक की मार्केट विकसित कर ली जिसका सबसे बढ़ा उत्पाद बना थम्स अप!

जब थम्सअप, लिम्का, गोल्डस्पॉट यह भारत के नंबर एक ब्रांड बन गए, तभी दुर्भाग्य से कांग्रेस की सरकार ने 1991- 93 में पेप्सी कोला और कोका कोला को फिर से भारत में प्रवेश दे दिया।जिसे जनता पार्टी के प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने भारत से भगा दिया था।

कोका कोला ने रमेश चौहान के 62 बॉटलिंग प्लांट में से 52 का अलग-अलग सौदा कर लिया। तब रमेश चौहान ने चतुराई बरती और 255 करोड में अपने थम्स अप, लिम्का बेच दिया।

यद्यपि रमेश चौहान को कुछ मजबूरी में यह करना पड़ा, पर फिर भी वह हारे नहीं।और उन्होंने उसी पैसे से इटालियन ब्रांड की कंपनी जो उन्होंने पहले खरीदी थी, (बिसलेरी) उसको बढ़ाना शुरू किया। और आज पानी के मामले में वह भारत का सबसे अगुआ ब्रांड है-2000 करोड रुपए की वैल्यू के साथ।

कैसे कोई देसी तरीकों से, विदेशी कंपनियों से भी बड़े ब्रांड बना सकता है इसका एक अच्छा उदाहरण रमेश चौहान ने प्रस्तुत किया है। संगीत और टेनिस के शौकीन हैं।अभी बेटी जयंती को काम में आगे बढ़ाया है,व स्वयं भी सक्रिय हैं।

नीचे:रमेश चौहान

जय स्वदेशी~जय भारत!

~#सतीशकुमार

Author: swadeshijoin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

insta insta insta insta insta insta